झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना 2023: Online Registration & Benefits

साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना रजिस्ट्रेशन और Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana Application Form डाउनलोड करे एवं एप्लीकेशन स्टेटस देखे

देश की महिलाओं और बच्चों को बढ़ते साइबर अपराधों से बचाने के लिए झारखण्ड सरकार द्वारा झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना को 17 दिसंबर 2020 को आरंभ किया गया है।इस योजना के तहत राज्य के बच्चों और महिलाओं को साइबर अपराध से बचाने के लिए हर साल ट्रेनिंग प्रदान की जाएगी जिससे वह होने वाले अपराध से बच सकें। तो चलिए दोस्तों आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना 2023 से जुड़ी संपूर्ण जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं जैसे Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana का उद्देश्य क्या है इसके लाभ क्या है आवेदन के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज कौन से हैं तथा आवेदन की प्रक्रिया क्या है आपसे निवेदन है कि हमारे इस लेख को विस्तार से पढ़ें

Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana

झारखण्ड के मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन जी के द्वारा पुलिस आधुनिकरण पर विशेष ज़ोर देते हुए अधिकारियों को बढ़ते साइबर अपराध से निपटने के लिए आवश्यक निर्देश दिए गए हैं। पिछले 5 वर्षों से अब तक झारखण्ड में लगभग 4803 साइबर अपराध सामने आए हैं जिसमें से पुलिस के द्वारा 1536 मामलों का निपटारा किया गया है। इसके चलते 1 महीने में 355 साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है और अब भी काफी ऐसे अपराधी हैं जो सामने नहीं आ पाए हैं। इसी समस्या को ध्यान में रखते हुए सरकार द्वारा झारखण्ड साइबर अपराध निरोधक योजना शुरू की गई है इस योजना के माध्यम से यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि राज्यव्यापी विभिन्न स्कूलों के छात्रों को सामुदायिक पुलिसिंग की ट्रेनिंग प्रदान की जाए। जिससे भविष्य में होने वाले अपराधों से वह स्वयं लड़ पाए और आत्मनिर्भर बन सके।

यह भी पढ़े: उन्नत भारत अभियान

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना का उद्देश्य

आपको बता दें कि झारखण्ड राज्य में साइबर अपराध के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं और अब तक इन अपराधों के ऊपर वेब सीरीज भी बन चुकी हैं। इसी चीज को मद्देनजर रखते हुए सरकार द्वारा झारखण्ड साइबर क्राइम पेंशन योजना को आरंभ किया गया है इस योजना के माध्यम से छात्रों व महिलाओं को कंप्यूटिंग पुलिसिंग की ट्रेनिंग प्रदान की जाएगी जिससे ट्रेनिंग प्राप्त करने के बाद बच्चे और महिलाएं स्वयं को साइबर अपराध से बचा सकेंगे। इस योजना का मुख्य उद्देश्य के राज्य के स्कूलों और कॉलेजों में पढ़ने वाले छात्र छात्राओं को अभी से साइबर सुरक्षा का ज्ञान प्रदान किया जाएगा जिससे भविष्य में होने वाले साइबर क्राइम से बच सके और आत्मनिर्भर बन पाए

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना के मुख्य तथ्य

योजना का नामझारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना 2023
किसके द्वारा शुरू की गईमुख्यमंत्री श्री हेमंत सुरेंद्र जी के द्वारा
आरंभ तिथि17 दिसंबर 2020
योजना के लाभार्थीझारखण्ड के बच्चे तथा महिलाएं
योजना का उद्देश्यराज्य की महिलाओं को बच्चों को बढ़ते साइबर क्राइम से बचाना
योजना का लाभछात्रों को कंप्यूटिंग पुलिसिंग की ट्रेनिंग प्रदान करना
आवेदन का प्रकारऑनलाइन आवेदन
आधिकारिक वेबसाइट

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना के घटक

झारखण्ड साइबर क्राईम योजना के अंतर्गत 5 घटक हैं जो कि इस प्रकार हैं

  • ऑनलाइन साइबर क्राइम
  • रिपोर्टिंग यूनिट
  • फॉरेंसिक यूनिट
  • क्षमता निर्माण इकाई
  • अनुसंधान एवं विकास इकाई
  • जागरूकता निर्माण इकाई

ऑनलाइन साइबर क्राइम यूनिट

ऑनलाइन साइबर क्राईम रिर्पोटिंग पोर्टल सीसीटीएनएस परियोजना का एक केंद्रीय नागरिक पोर्टल है। इस पोर्टल का उपयोग करके साइबर अपराध के पीड़ितों द्वारा एक ऑनलाइन साइबर अपराध शिकायत की जा सकती है। ऐसे सभी अपराधों के लिए केंद्रीय भंडार प्रदान करेगा जिसका उपयोग साइबर अपराधों उनके रुझानों और उपचारात्मक पायो आदि के बारे में एक विश्लेषणात्मक रिपोर्ट प्रकाशित करने के लिए किया जाएगा। यह यूनिट 1 ऑनलाइन साइबर क्राईम रिर्पोटिंग प्लेटफार्म के विकास के लिए जिम्मेदार होगी।

फॉरेंसिक यूनिट

एक राष्ट्रीय साइबर फॉरेंसिक प्रयोगशाला हेतु संचालित करेगी इसमें सभी नवीनतम फॉरेंसिक उपकरण सेट अप होंगे जो सभी केंद्रीय राज्य केंद्र शासित प्रदेशों के साथ साथ केंद्रीय राज्य फॉरेंसिक प्रयोगशाला में और जब भी आवश्यक हो सुलभ होंगे। इस यूनिट में देशभर के इलेक्ट्रॉनिक फॉरेंसिक विश्लेषण करने और कानून प्रवर्तन एजेंसियों की सहायता के लिए सहाय व सुरक्षा परिषद की एक टीम होगी। यह प्रयोगशाला सभी गहन और उन्नत स्तर के फॉरेंसिक विश्लेषण को पूरा करेगी।

साइबर अपराध रोकथाम योजना में अनुसंधान और विकास इकाई

साइबर स्पेस में अश्लील और आपत्तिजनक सामग्री का पता लगाने के लिए प्रभावी उपकरण विकसित करने के लिए एक शब्द शोधन की आवश्यकता है इसीलिए राष्ट्रीय महत्व ने अनुसंधान और शैक्षणिक संस्थानों के साथ साझेदारी में अनुसंधान और विकास गतिविधियों को शुरू करने की आवश्यकता है। इन पहलुओं से प्रौद्योगिकी की तत्परता में सुधार करने में मदद मिलेगी और किसी भी प्रकार के साइबर अपराधों का सामना करने के लिए तैयार किया जाएगा अनुसंधान और विकास गतिविधियों के हिस्से के रूप में देश में कई सेंटर ऑफ एक्सीलेंस विकसित किए जाएंगे

Cyber Crime Prevention Yojana
Cyber Crime Prevention Yojana

CCPWC Scheme में सेटअप करने के लिए क्षमता निर्माण इकाई

यह इकाई सभी अवश्यक क्षमताओं के लिए केंद्रीय और राज्य पुलिस बलों अभी योजना पक्ष न्यायिक अधिकारियों और अन्य सभी संबंधित हेतु धारण की क्षमता निर्माण का समर्थन करेगी जैसे साइबर अपराध रोकथाम योजना के तहत पहचान जांच फॉरेंसिक आधी क्षमता निर्माण इकाई भी राज्य संघ राज्य क्षेत्र के अधिकारियों की सहायता करेगी।

साइबर अपराध रोकथाम योजना में जागरूकता स्वजन इकाई

साइबर क्राइम दोष देने और सक्रिय सामान की पहल के उद्देश्य से भारत सरकार द्वारा एक अच्छी तरह से परिभाषित नागरिक जागरूकता कार्यक्रम की आवश्यकता है। स्कूली पाठ्यक्रम के घटक के रूप में शिक्षा के प्रारंभिक चरण में स्कूलों को साइबर क्राइम और साइबर स्वच्छता के बारे में जागरूकता प्रदान की जाएगी।यह जागरूकता संचार एक वेब पोर्टल और मोबाइल ऐप के माध्यम से प्रदान की जाएगी।

Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana के लाभ एवं विशेषताएं

  • झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना को झारखण्ड के मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन जी के द्वारा 17 दिसंबर 2020 को शुरू किया गया है।
  • इस योजना के तहत राज्य के छात्रों और महिलाओं को साइबर अपराध से बचने के लिए ट्रेनिंग प्रदान की जाएगी।
  • इस योजना के अंतर्गत जिले के 10 स्कूलों के छात्रों का चयन किया जाएगा।
  • छात्रों को कम्युनिटी पुलिसिंग की ट्रेनिंग प्रदान की जाएगी जिससे वह स्वयं की रक्षा कर पाए।
  • इससे राज्य के स्कूलों और कॉलेजों में पढ़ने वाले छात्रों को सुरक्षा का ज्ञान प्राप्त होगा।
  • राज्य के छात्राओं और महिलाओं को आत्मनिर्भर व सशक्त बनाया जाए
  • इस योजना के अंतर्गत 6 घटकों को शामिल किया गया है जो है ऑनलाइन साइबर क्राईम रिर्पोटिंग यूनिट फॉरेंसिक यूनिट क्षमता निर्माण इकाई अनुसंधान एवं विकास इकाई जागरूकता निर्माण इकाई

झारखण्ड साइबर क्राइम प्रिवेंशन योजना के अंतर्गत आवेदन की प्रक्रिया

राज्य के इच्छुक लाभार्थी Jharkhand Cyber Crime Prevention Yojana के अंतर्गत आवेदन करवाना चाहते हैं उन्हें अभी थोड़ा इंतजार करना होगा क्योंकि सरकार द्वारा अभी इस योजना के आवेदन की प्रक्रिया को आरंभ नहीं किया गया है जैसे ही सरकार द्वारा इसके आवेदन की प्रक्रिया को आरंभ किया जाएगा वैसे ही हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से इस प्रक्रिया के बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करेंगे। यदि आपको इस योजना से संबंधित कोई भी कठिनाई आती है या आपके मन में कोई भी प्रश्न आता है तो आप हम से नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं आप का कमेंट हमारे लिए महत्वपूर्ण है

Nationa Portal Of India- india.gov.in

Leave a Comment