मुख्‍यमंत्री किसान सहाय योजना 2023 – ऑनलाइन एप्लीकेशन स्टेटस

Mukhyamantri Kisan Sahay Yojana Apply और मुख्‍यमंत्री किसान सहाय योजना लाभार्थी सूची एवं लाभ, विशेषताएं एवं पात्रता जाने

गुजरात के किसानों को उनकी फसलों पर प्राकृतिक आपदाओं के कारण होने वाले नुकसान के लिए मुआवजा प्रदान करने हेतु मुख्यमंत्री श्री विजय रुपाणी जी के द्वारा Mukhyamantri Kisan Sahay Yojana की शुरुआत 10 अगस्त 2020 को की गई। इस योजना के अंतर्गत किसानों को 33% और 60% तक की आपदाओं पर प्रति हेक्टेयर ₹20000 की मुआवजा राशि मुहैया कराई जाएगी। एवं 65% से अधिक आप बताओ पर ₹25000 की मुआवजा राशि मुहैया कराई जाएगी। यदि आप भी मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना 2023 से संबंधित जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप से निवेदन है कि हमारे इस लेख को ध्यानपूर्वक पढ़ें।

Mukhyamantri Kisan Sahay Yojana

यह एक प्रकार की क्रॉप इंश्योरेंस स्कीम है जो गुजरात सरकार ने गुजरात के किसानों के लिए आरंभ की है। इस योजना के माध्यम से किसानों को प्राकृतिक आपदाओं के कारण होने वाले नुकसान की भरपाई की जाएगी। मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना के अंतर्गत गुजरात सरकार ₹20000 तथा ₹25000 की आर्थिक सहायता किसानों को प्रदान करेंगी। यदि नुकसान 33% से 60% तक की फसल का हुआ है तो 20000 रुपए प्रति हेक्टेयर की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी और यदि नुकसान 60% से अधिक फसल का हुए है तो 25000 रुपए प्रति हेक्टेयर की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। यह आर्थिक सहायता अधिकतम 4 हेक्टेयर तक प्रदान की जाएगी। इस योजना का लाभ 56 लाख किसान उठा पाएंगे। इस योजना की खास बात यह है कि इस योजना का लाभ उठाने के लिए आपको किसी प्रकार के प्रीमियम का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है।

Mukhyamantri Kisan Sahay Yojana
Mukhyamantri Kisan Sahay Yojana

यह भी पढ़े: Anyror Gujarat

वर्ष 2021 में गुजरात के 53 लाख किसानों को किया जाएगा लाभान्वित 

गुजरात में सीएम विजय रूपाणी ने किसान सहाय योजना को वर्ष 2021 के लिए मंजूरी दे दी है। जिसके तहत खरीफ सीजन के दौरान प्राकृतिक आपदाओं के कारण हुए नुकसान की भरपाई करने के लिए किसानों को आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। इस योजना के तहत गुजरात के लगभग 53 लाख से भी ज़्यादा किसानों को लाभान्वित किया जाएगा। किसान सहायता योजना के अंतर्गत गुजरात के छोटे एवं सीमांत किसानों को शामिल किया गया है। जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं कि पिछले महीने ही गुजरात में चक्रवाती तूफान के कारण हजारों किसानों की फसलें बर्बाद हो गई है। 

  • इस तूफान में फल सब्जी से लेकर दलहन इत्यादि की फसलों तक लगभग डेढ़ करोड़ का नुकसान किसानों को हुआ है। 
  • जिसके बाद राज्य सरकार ने किसानों के नुकसान की भरपाई करने के लिए केंद्र सरकार से लगभग 10 हजार करोड़ रुपए की सहायता भी मांगी है, जिससे कि किसानों को आर्थिक सहायता प्रदान की जा सके।

प्रधानमंत्री आवास बीमा योजना

प्रधानमंत्री आवास बीमा योजना भी एक क्रॉप इंश्योरेंस स्कीम है जो कि केंद्र सरकार द्वारा चलाई जाती है। इस वर्ष मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना प्रधानमंत्री आवास बीमा योजना को रिप्लेस करेगी क्योंकि प्रधानमंत्री आवास बीमा योजना के अंतर्गत किसानों को प्रीमियम की राशि का भुगतान करना होगा। कोरोनावायरस संक्रमण के चलते इस साल किसान इस स्थिति में नहीं है कि वह प्रीमियम का भुगतान कर सके इसलिए गुजरात के मुख्यमंत्री ने यह योजना आरंभ की है जिसमें किसानों को किसी प्रकार के प्रीमियम का भुगतान नहीं करना पड़ेगा।

Key Highlights Of Mukhyamantri Kisan Sahay Yojana

आर्टिकल किसके बारे में हैमुख्यमंत्री किसान सहाय योजना
किस ने लांच की स्कीमगुजरात सरकार
लाभार्थीगुजरात के किसान
आर्टिकल का उद्देश्यइस योजना के माध्यम से प्राकृतिक आपदाओं के कारण किसानों को हुए नुकसान की भरपाई आर्थिक सहायता प्रदान करके की जाएगी।
ऑफिशियल वेबसाइटयहां क्लिक करें
साल2022
स्कीम उपलब्ध है या नहींउपलब्ध

मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना का उद्देश्य

इस योजना का मुख्य उद्देश्य प्राकृतिक आपदाओं के कारण किसानों को हुए नुकसान में सरकार द्वारा आर्थिक सहायता प्रदान करना है। जिसके माध्यम से किसानों को भारी नुकसान होने से बचाया जा सकेगा और किसानों की आर्थिक स्थिति भी खराब नहीं होगी। इस Mukhyamantri Kisan Sahay Yojana के अंतर्गत किसानों को किसी प्रकार के प्रीमियम का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। जिससे कि ज्यादा से ज्यादा किसान इस योजना का लाभ उठा पाएंगे।

गुजरात मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना के लाभ

  • मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना के माध्यम से किसानों को फसल इंश्योरेंस कवर प्रदान किया जाएगा।
  • इस योजना के माध्यम से यदि किसी प्राकृतिक आपदा के कारण किसानों को नुकसान होता है तो उन्हें ₹20000 तथा ₹25000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।
  • यदि नुकसान 33% से लेकर 60% तक हुआ है तो ₹20000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। और यदि नुकसान 60% से अधिक हुआ है तो ₹25000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।
  • इस योजना के अंतर्गत किसानों को किसी प्रकार के प्रीमियम का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है।
  • Mukhyamantri Kisan Sahay Yojana 2021 के अंतर्गत 3 प्राकृतिक आपदाओं को कवर किया गया है जो सूखा पड़ना, भारी वर्षा होना तथा बेमौसम बारिश होना है।
  • इस योजना के माध्यम से किसानों को नुकसान होने से बचाया जाएगा जिससे कि उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार आएगा।
  • इस योजना की घोषणा गुजरात के मुख्यमंत्री ने 10 अगस्त 2020 को की है।
  • यह योजना केवल इस वर्ष के लिए प्रधानमंत्री आवास बीमा योजना को रिप्लेस करेगी।

मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना के तहत लाभ प्रदान की जाने की स्थिति

  • सूखा पड़ने पर: यदि किसी तालुका में 10 इंच से कम बारिश हुई है या फिर मानसून के मौसम में बारिश ना हुई हो। जिसकी वजह से फसल को नुकसान पहुंचा हो। तो राज्य द्वारा यह माना जाएगा कि उस तालुका में सूखा पड़ गया है। इस स्तिथि में मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना क्लेम की जा सकेगी।
  • भरी वर्षा के मामले में: यदि किसी तालुका में 35 इंच या फिर 48 घंटे तक लगातार बारिश हुई हो तो राज्य द्वारा यह माना जाएगा कि उस तालुका में भरी वर्षा पड़ी है जिसकी वजह से फसल को नुकसान पहुंचा है। इस स्तिथि में मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना क्लेम की जा सकेगी।
  • बेमौसम बारिश पड़ने पर: यदि किसी तालुका में 15 अक्टूबर से लेकर 15 नवंबर तक 50 एमएम से ज्यादा बारिश लगातार 48 घंटे तब पड़ती है। जिसके माध्यम से फसल को नुकसान पहुंचा जाता है। इस स्थिति में उस तालुका में बेमौसम बारिश की स्थिति मानी जाएगी। इस स्तिथि में मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना क्लेम की जा सकेगी।
Mukhyamantri Kisan Sahay Yojana 2023 की पात्रता
  • इस योजना का लाभ उठाने के लिए आवेदक को गुजरात का स्थाई निवासी होना अनिवार्य है।
  • इस योजना का लाभ सभी राजसव रिकॉर्ड में पंजीकृत 8- A किसान खाताधारक उठा सकते है।
  • वन अधिकार अधिनियम के तहत मान्यता प्राप्त किसान भी इस योजना का लाभ उठा सकते है।
  • आधार कार्ड
  • मोबाइल नंबर
  • राशन कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ

मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना लाभार्थी सूची

नीचे दी गई प्रक्रिया को फॉलो करके गुजरात सरकार द्वारा बेनिफिशियरी लिस्ट तैयार की जाएगी।

  • सर्वप्रथम जिला कलेक्टर तालुका/ गांव की सूची तैयार करेंगे।
  • जिन की फसल सूखे, भारी वर्षा या गैर मौसमी वर्षा के कारण खराब हुई है।
  • यह सूची रास्ता विभाग के साथ 7 दिनों के भीतर साझा की जाएगी।
  • अगले 15 दिनों में एक विशेष सर्वे टीम आकर नुकसान की समीक्षा करेगी।
  • इसके पश्चात डिस्टिक डेवलपमेंट ऑफिसर के द्वारा साइन की गई एक बेनिफिशियरी फार्मर सूची की घोषणा की जाएगी।
  • इस योजना के अंतर्गत लाभार्थी दो प्रकार के होंगे 33% से 60% की हानि होने वाले तथा 60% से अधिक की हानि होने वाले।

मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना में आवेदन करने की प्रक्रिया

यदि मुख्यमंत्री किसान सहायता में आवेदन करना चाहते हैं तो आपको नीचे दी गई प्रक्रिया को फॉलो करना होगा

  • सर्वप्रथम आपको ई ग्राम सेंटर पर जाना होगा।
  • इसके पश्चात आपको ऑनलाइन अप्लाई करना होगा।
  • यदि आपकी एप्लीकेशन अप्रूव हो जाती है तो आप को आर्थिक सहायता आपके बैंक अकाउंट में डायरेक्ट ट्रांसफर कर दी जाएगी।
  • सरकार द्वारा एक ऑनलाइन पोर्टल भी इस योजना के लिए आरंभ किया जाएगा।
  • एक ग्रीवेंस रिड्रेसल मेकैनिज्म भी आरंभ किया जाएगा जिसके माध्यम से किसान अपनी शिकायतें दर्ज कर पाएंगे और एक टोल फ्री नंबर सर्विस का भी आरंभ किया जाएगा जिसके माध्यम में किसान अपनी समस्याओं का समाधान कर पाएंगे।

Leave a Comment