यूपी स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना 2023- ऑनलाइन आवेदन

उत्तर प्रदेश स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा पंजीकरण और Swami Vivekananda Etihasik Paryatan Yatra Yojana उद्देश्य, लाभ, विशेषताएं एवं पात्रता जाने

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा यूपी स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना का शुभारंभ श्रमिक वर्ग के मजदूरों को लाभ पहुंचाने के लिए किया गया है। इस योजना के अंतर्गत चयनित श्रमिकों को 12000 रूपए की धनराशि आर्थिक सहायता के तौर पर प्रदान की जाएगी। राज्य के जो श्रमिक कारखानों और कार्यशाला में काम करते हैं उन्हें राज्य सरकार द्वारा तीर्थ यात्रा के लिए आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। राज्य के इच्छुक लाभार्थी इस योजना के अंतर्गत जल्द ही आवेदन कर सकते हैं। तो आइए आज हम आपको यूपी स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक यात्रा योजना से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारियां बताएंगे।

Swami Vivekananda Etihasik Paryatan Yatra Yojana

इस योजना के अंतर्गत जो श्रमिक 6.5 लाख वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों और 20,500 कारखानों और कार्यशालाओं में काम कर करते हैं केवल उन्हें ही 12000 रूपए की धनराशि आर्थिक सहायता के तौर पर प्रदान की जाएगी। जो मजदूर व्यावसायिक प्रतिष्ठानों, कारखानों या कुछ कार्यशालाओं में काम कर रहे हैं उन्हें इस योजना के तहत सभी धार्मिक स्थानों की यात्रा करने का अवसर प्रदान किया जाएगा। यूपी स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना के तहत 12000 रूपए की रकम यूपी मजदूरों के सीधे बैंक खातों में ट्रांसफर की जाएगी। इस योजना के तहत लगभग 1.5 करोड़ श्रमिकों को लाभ मिलेगा। यूपी स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना  के माध्यम से देश की समृद्ध सांस्कृतिक और धार्मिक विरासत से भी परिचित हो सकेंगे।

Swami Vivekananda Etihasik Paryatan Yatra Yojana
Swami Vivekananda Etihasik Paryatan Yatra Yojana

यूपी स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना का उद्देश्य

इस योजना का मुख्य उद्देश्य यही है कि जो लोग कार्यस्थल कारखाने में काम करते हैं और तीर्थ यात्रा करने में पैसों की तंगी के कारण असमर्थ होते हैं उन लोगों को Swami Vivekananda Etihasik Paryatan Yatra Yojana के अंतर्गत 12000 रूपए की धनराशि आर्थिक सहायता के तौर पर प्रदान की जाएगी। इस योजना के अंतर्गत मिलने वाली राशि से मध्यमवर्ग के लोगों का तीर्थ यात्रा का सपना पूरा हो सकता है।इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने की तिथि 24 जनवरी से आरंभ की जाएगी। राज्य के जो भी मजदूरी इस योजना के अंतर्गत आवेदन करके जल्द से जल्द इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

यूपी मजदूरों की संकल्पना धार्मिक यात्रा योजना

यूपी मजदूर धार्मिक यात्रा योजना की अवधारणा पहले दत्तोपंत ठेंगडी की जयंती पर 10 नवंबर 2020 को की गई थी। वह आरएसएस के विचारक थे, जिन्होंने भारतीय मजदूर संघ (BMS) की स्थापना की, जो एक ट्रेड यूनियन संगठन है, जो समर्थक श्रम नीतियों को लागू करने के लिए एक दबाव समूह के रूप में कार्य करता है।

योजना के तहत धार्मिक यात्रा के लिए स्थान

स्थानों की सूची नीचे दी गई है

आगरा में धार्मिक यात्रा के लिए मजदूरों को भी राज्य सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत ₹12000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। इन शहरों में मंदिरों के अलावा, कुछ और जगहें होंगी, जिनके लिए लाभार्थियों को आवेदन पत्र भरना होगा।

  • अयोध्या धार्मिक शहर,
  • मथुरा धार्मिक शहर,
  • प्रयागराज धार्मिक शहर,
  • वाराणसी धार्मिक शहर,
  • मेरठ में हस्तिनापुर शहर
  • गोरखपुर में गोरखनाथ मंदिर
  • शाकुंभरी देवी और विंध्यवासिनी देवी के मंदिर

विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना के लाभ

  • इस योजना के अंतर्गत केवल मजदूर वर्ग के लोगों को ही लाभ प्रदान किया जाएगा।
  • इस योजना के अंतर्गत श्रमिकों को 12000 रूपए की धनराशि की सुविधा प्रदान की जाएगी|
  • प्रदान की जाने वाली रकम सीधे लाभार्थी के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर की जाएगी।
  • UP Paryatan Yatra के अंतर्गत 6.5 लाख वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों और 20,500 कारखानों,
  • कार्यशालाओं में काम कर करने श्रमिको को इस योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा।
  • यूपी स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना का लाभ लगभग 1.5 करोड़ श्रमिकों को प्रदान किया जाएगा।
  • इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने की तिथि 24 जनवरी 2020 से आरंभ की जाएगी।

पात्रता मापदंड

  • आवेदक उत्तर प्रदेश राज्य का स्थायी निवासी होना चाहिए।
  • वह एक पंजीकृत मजदूर होना चाहिए, जिसने यूपी राज्य श्रम कल्याण बोर्ड के साथ अपना पंजीकरण पूरा किया हो।
  • उम्मीदवार को वर्तमान में वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों, कारखानों, कार्यशालाओं में नियोजित किया जाना चाहिए

यूपी स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना के लिए आवेदन कैसे करें?

इस योजना के लिए आवेदन पत्र 24 जनवरी 2020 से शुरू किए जाएंगे। उत्तर प्रदेश जनवरी 2021 में राज्य श्रमिक कल्याण बोर्ड के लगभग 1.5 करोड़ मजदूरों के लिए सभी आवेदन पत्र आमंत्रित करेंगे।

कर्मचारी जो बोर्ड के साथ नामांकित हैं, रुपये के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए पंजीकरण फॉर्म भर सकते है। यह योजना अन्य यूपी कल्याण योजनाओं के साथ संयुक्त है। अन्य यूपी योजनाओं तक पहुँचने के लिए लिंक यहाँ दिया गया है

यूपी स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना की आवेदन प्रक्रिया

यूपी स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना कि अभी सिर्फ घोषणा की गई है अभी तक इस योजना को पूरी तरीके से लॉन्च नहीं किया गया है। राज्य के जो भी इच्छुक लाभार्थी इस योजना के अंतर्गत आवेदन करना चाहते हैं तो उन्हें अभी थोड़ा इंतजार करना होगा क्योंकि जैसे ही इस योजना की ऑफिशियल वेबसाइट को लांच नहीं किया गया है, जैसे ही इस योजना के आवेदन के लिए वेबसाइट को लांच किया जाएगा वैसे ही हम आपको इस योजना के अंतर्गत आवेदन की प्रक्रिया अपने इस आर्टिकल के माध्यम से बताएंगे।

National Portal Of India- india.gov.in

Leave a Comment