यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2021: ऑनलाइन आवेदन | एप्लीकेशन फॉर्म

UP Mukhyamantri Bal Seva Yojana Application Form | यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन | UP Mukhyamantri Bal Seva Yojana Online Apply | यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना सूचि

29 मई 2021 को सीएम योगी आदित्यनाथ जी द्वारा यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का शुभारंभ किया गया है। जिसके माध्यम से करोना महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों के लिए शिक्षा से लेकर शादी तक का खर्च यूपी सरकार द्वारा उठाया जाएगा। इस योजना के माध्यम से राज्य सरकार अनाथ बच्चों को सहारा देने के साथ-साथ उनका बेहतर भविष्य बनाने के लिए भी आर्थिक सहायता दी जाएगी। हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2021 से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी जैसे उद्देश्य, लाभ, विशेषताएं, पात्रता एवं ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया आपको बताएंगे। UP Mukhyamantri Bal Seva Scheme के अंतर्गत जो भी अनाथ बच्चे लाभान्वित होना चाहते हैं तो हमारे इस पोस्ट को अंत तक अवश्य करें।

UP Mukhyamantri Bal Seva Scheme

यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का लाभ केवल करोना महामारी के कारण अनाथ बच्चों को ही प्रदान किया जाएगा। अनाथ हुए बच्चो के पालन पोषण की पूरी जिम्मेदारी सरकार ने अपने कंधों पर ले ली है। सीएम योगी आदित्यनाथ जी का कहना है कि UP Mukhyamantri Bal Seva Scheme के माध्यम से अनाथ बच्चों का पालन पोषण, शिक्षा-दीक्षा, सहित विकास के सभी संसाधन उपलब्ध कराना राज्य सरकार की जिम्मेदारी होगी। जिन बच्चों ने अपने अभिभावक में से करोना महामारी के कारण किसी एक को भी खो दिया है, ऐसे अनाथ बच्चों को बालिग होने तक राज्य सरकार द्वारा प्रतिमाह 4000 रुपए की आर्थिक सहायता दी जाएगी। 

  • जिन अनाथ बच्चों में बालिकाएं शामिल है उनकी शादी के लिए राज्य सरकार द्वारा 1.1000 रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। 
  • अनाथ बच्चों को शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ाने के लिए टेबलेट या लैपटॉप की सुविधा भी इस योजना के माध्यम से उपलब्ध करवाई जाएगी। 
  • यही बच्चे कल का भविष्य है इसीलिए उनकी उन्नति के लिए सभी प्रकार की सुख सुविधाएं उपलब्ध करवाए जाएंगी।
UP Mukhyamantri Bal Seva Scheme

यूपी फ्री लैपटॉप योजना

आईटीआई में प्रशिक्षण ले रहे छात्रों को मिलेगा यूपी बाल सेवा योजना का लाभ

आईटीआई में प्रशिक्षण लेने वाले छात्रों को भी इस योजना के अंतर्गत लाभान्वित किया जाएगा। जिसके लिए राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण इंस्टीट्यूट के प्रिंसिपल डॉक्टर नरेश कुमार द्वारा आईटीआई विद्यार्थियों के लिए पात्रता की शर्तें जारी कर दी गई है। यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के माध्यम से आईटीआई छात्रों को लैपटॉप एवं टेबलेट, की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी जिसके लिए उन्हें सादे कागज पर नोडल आईटीआई फतेहपुर का आवेदन करना है। जिन आईटीआई छात्रों की आयु 18 वह पात्र होंगे जिनके माता-पिता का करोना के कारण निधन हो गया है। 

  • जिन विद्यार्थियों के अभिभावक में से किसी एक की मृत्यु मार्च 2020 से पहले हुई है और एक की मृत्यु covid 19 के कारण हुई है उन्हें इस योजना के अंतर्गत लाभ प्रदान किया जाएगा। 
  • जिन बच्चों के आय अर्जित करने वाले अभिभावक करुणा के कारण निधन कर चुके हैं वह भी इस योजना के पात्र होंगे।

यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का उद्देश्य

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं कि कोविड-19 के गंभीर प्रकोप के कारण देश की आर्थिक स्थिति बिगड़ने के साथ-साथ बहुत से लोगों ने अपनों को खो दिया है। करोना महामारी के कारण बहुत से छोटे बच्चे ने समय से पहले ही अपने माता पिता का साया उठते हुए देखा है और बहुत सारे बच्चे ऐसे हैं जिनकी जिम्मेदारी उठाने वाला भी कोई नहीं है। इन्हीं सब परेशानियों को मद्देनजर रखते हुए अनाथ बच्चों की जिम्मेदारी अपने कंधों पर उठाने का फैसला लिया है। यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का मुख्य उद्देश्य यही है कि अनाथ हुए बच्चों को उनका बेहतर भविष्य बनाने के लिए हर वह सुख सुविधा प्रदान की जाए जिसके वह हकदार हैं क्योंकि यही बच्चे कल का भविष्य बनेंगे और देश की बिगड़ी आर्थिक स्थिति को सुधरेंगे।

Highlights Of UP Mukhymantri Bal Seva Scheme

योजना का नाम यूपी मुख्यमंंत्री बाल सेवा योजना
कब आरंभ हुआ29 मई 2021
किसके द्वारा आरंभ हुईसीएम योगी आदित्यनाथ जी द्वारा
योजना का उद्देश्यकारोना महामारी के कारण अनाथ बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान करना।
योजना का लाभ बच्चे का भविष्य सुधरेगा
लाभार्थीकरोना महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चे
सरकार राज्य सरकार
राज्यउत्तर प्रदेश
आवेदन का प्रकार ऑनलाइन आवेदन
आवेदन की तिथिघोषित नहीं
आवेदन की अंतिम तिथिअभी पता नहीं 
ऑफिशियल वेबसाइटhttp://up.gov.in/ 

कॉविड 19 के कारण अनाथ बच्चों की पहचान प्रक्रिया पूरी हुई

यूपी सरकार द्वारा 15 दिन पहले ही करोना महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों की पहचान प्रक्रिया पूरी की जा चुकी है। इसके अलावा यूपी मुख्यमंंत्री बाल सेवा योजना के माध्यम से अनाथ हुए बच्चों के विकास के लिए एवं समुचित व्यवस्था कराने के लिए महिला एवं बाल विकास विभाग को कार्य योजना बनाने के निर्देश भी दे दिए गए हैं। अब तक की जानकारी के मुताबिक यूपी में 197 बच्चे ऐसे है जिनके माता-पिता का करोना महामारी के कारण निधन हो चुका है और 1799 बच्चे ऐसे हैं जिन्होंने अपने माता-पिता में से किसी एक को खो दिया है। यूपी मुख्यमंत्री बाल विकास योजना का लाभ केवल उन्हीं बच्चों को प्रदान किया जाएगा जिन्होंने कोविड-19 के कारण अपने अभिभावक को खो दिया है।

यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना

Benefits Of UP Mukhyamantri Bal Seva Yojna

  • यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का लाभ केवल यूपी में ही नहीं बल्कि हरियाणा राज्य के अनाथ बच्चों को भी प्रदान किया जाएगा।
  • इस योजना का लाभ केवल करोना महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों को ही प्रदान किया जाएगा।
  • जिन बच्चों ने covid-19 के कारण अपने माता-पिता में से किसी एक को खो दिया है या फिर दोनों को ही खो दिया है उन बच्चों के पालन पोषण करने वाले व्यक्ति को 4000 रुपए प्रति महीना की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।
  • बच्चों को शिक्षा के लिए टेबलेट या फिर लैपटॉप की सुविधा भी उपलब्ध कराई जाएगी।
  • जिन अनाथ बच्चों में बालिकाएं शामिल हैं उनकी शादी के लिए राज्य सरकार द्वारा 1.1000 रुपए की वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।
  • जिन बच्चों के माता-पिता का देहांत हो गया है और उनका पालन पोषण करने के लिए कोई केयरटेकर नहीं है तो ऐसे बच्चों को भी सरकार द्वारा पूर्ण सहयोग दिया जाएगा।
  • इन्हें भारत सरकार द्वारा संचालित कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों (आवासीय) में अथवा प्रदेश सरकार द्वारा संचालित राजकीय बाल गृह (बालिका) में रखा जाएगा।
  • इसके अलावा UP Mukhyamantri Bal Seva Yojana के तहत सुविधानुसार इन्हें यूपी में स्थापित किए जा रहे 18 अटल आवासीय विद्यालयों में उनकी देखभाल की जाएगी।
  • अनाथ बच्चों की जिम्मेदारी उठाने के लिए केवल राज्य सरकार ही नहीं बल्कि केंद्र सरकार भी पूर्ण सहयोग करेगी।

आवेदन के लिए पात्रता

  • आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी होना अनिवार्य है।
  • उम्मीदवार की आयु 0 वर्ष से लेकर 18 वर्ष के बीच होनी चाहिए
  • केवल वही बच्चे इस योजना का लाभ उठा सकते हैं जिनके माता पिता की मृत्यु कोविड-19 महामारी में हुई है।
  • वह बच्चे जिनके माता-पिता में से किसी एक की मृत्यु कोरोनावायरस महामारी के कारण हुई है।
  • आवेदक के जीवित माता पिता की आयु 2 लाख से अधिक नहीं होनी चाहिए

आवेदन के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • आय प्रमाण पत्र
  • बच्चों का आयु प्रमाण पत्र
  • माता पिता के मृत्यु प्रमाण पत्र
  • अभिभावकों के पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
  • शिक्षण संस्थान में पंजीयन का प्रमाण पत्र

यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2021 के अंतर्गत आवेदन की प्रक्रिया

राज्य के जो लाभार्थी यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के अंतर्गत आवेदन करना चाहते हैं उन्हें नीचे दिए गए चरणों का पालन करना है।

  • सर्वप्रथम शहरी क्षेत्र के लोगों को जिला बाल संरक्षण इकाई व बाल कल्याण समिति एवं ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को ग्राम विकास पंचायत अधिकारी या विकासखंड जिला प्रोबेशन अधिकारी कार्यालय में जाना होगा।
  • वहां जाने के बाद आपको मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के आवेदन पत्र की मांग करनी होगी
  • आवेदन फॉर्म प्राप्त होने के बाद इसमें पूछी गई सभी जानकारी आपको दर्ज करनी होगी
  • संपूर्ण जानकारी दर्ज करने के बाद आपको अपने सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज अटैच करने होंगे।
  • दस्तावेज़ अटैच करने के बाद आपको यह फॉर्म वही कार्यालय में जमा कर देना होगा।
  • आपका आवेदन 15 दिन के भीतर ही सफलता पूर्वक हो जाएगा।
  • इस योजना के अंतर्गत आवेदन माता पिता की मृत्यु के 2 वर्ष के भीतर ही कराया जा सकता है

Leave a Comment