(upbhulekh.gov.in) उत्तर प्रदेश भूलेख- खसरा खतौनी, UP Bhulekh Land Record

UP Bhulekh Online Land Record | UP Bhulekh Online | उत्तर प्रदेश भूलेख ऑनलाइन खसरा खतौनी | Land Record Online Check | यूपी भूलेख खसरा खतौनी व नक्शा |

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा लोगों के लिए जमीन का पूरा विवरण ऑनलाइन देखने के लिए यूपी भूलेख नाम की ऑफिशल वेबसाइट शुरू कर दी गई है। इस ऑफिशल वेबसाइट से आप  भूमि से संबंधित  सभी जानकारी इस पोर्टल पर प्राप्त कर सकते हैं। राज्य का कोई भी व्यक्ति इस सुविधा का लाभ उठा सकता है।  यूपी सरकार द्वारा यूपी भूलेख पोर्टल को शुरू करवाया गया है जिससे लोग घर बैठे ही आसानी से अपना सारा विवरण देख सकते हैं।क्या आपको  उत्तर प्रदेश भूलेख ऑनलाइन खसरा खतौनी के बारे में संपूर्ण जानकारी है? अगर नहीं  तो आइए आज हम आपको अपने आर्टिकल के माध्यम से यूपी भूलेख के बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करेंगे।  सारी जानकारी जानने के लिए आपको हमारा आर्टिकल ध्यान पूर्वक पढ़ना पड़ेगा।

Table of Contents

(upbhulekh.gov.in) UP Bhulekh Online Land Record

 दोस्तों जैसे कि आप जानते हैं कि उत्तर प्रदेश भूलेख को अलग-अलग जगहों पर कई अलग-अलग नामों से पुकारा जाता है। जैसे के भूमि अभिलेख, खेत के कागजात, खेत का नक्शा, खाता, भूमिका ब्यूरो आदि उत्तर प्रदेश के लोगों के लिए भूमि के रिकॉर्ड को ऑनलाइन कर दिया गया है राज्य सरकार द्वारा जिससे लोग अब घर बैठे ही आसानी से अपनी भूमि का सारा विवरण प्राप्त कर सकते हैं। इस पोर्टल से आपको सारी जानकारी बिल्कुल सही माध्यम से दी जाती है जिससे आप अपनी जमीन पर पूरा मालिकाना हक जता सकते हैं। पहले उत्तर प्रदेश के लोगों को  अपनी भूमि की जानकारी के लिए  पटवारखाने जाना पड़ता था और बहुत सी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था  इसी चीज को मद्देनजर रखते हुए सरकार द्वारा राज्य के लोगों के लिए घर बैठे इंटरनेट के माध्यम से एक सुविधा शुरू कर दी गई है

यूपी भूलेख का उद्देश्य

जैसे कि हम सब जानते हैं पहले लोगों को अपने जमीन के बारे में कोई भी जानकारी प्राप्त करने के लिए सरकारी कार्यालयों के चक्कर काटने पड़ते थे। ऐसे में उन्हें काफ़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था। किसी चीज को मद्देनजर रखते हुए सरकार द्वारा यूपी भूलेख खसरा खतौनी पोर्टल को आरंभ कर दिया गया है। इस पोर्टल के माध्यम से लोगों को अपनी भूमि का विवरण देखने के लिए सरकारी कार्यालयों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे वह घर बैठे ही इंटरनेट के माध्यम से अपने भूमि का विवरण जांच सकते हैं। इस पोर्टल का मुख्य उद्देश्य है कि उत्तर प्रदेश के लोगों को भूमि के रिकॉर्ड कंप्यूटराइज उपलब्ध करवाए जाए।

  • UP Bhulekh पोर्टल के माध्यम से लोग अब घर बैठे  ही अपनी भूमि का रिकॉर्ड जान सकते हैं।
  • इस पोर्टल का मुख्य उद्देश्य था के नागरिकों को अपनी जमीन का विवरण आसानी से मिल जाए।
  •  यूपी भूलेख पोर्टल का उद्देश्य था कि राज्य के लोगों को पटवारखाने के चक्कर न लगाने पड़ें।
  • इस पोर्टल का मुख्य उद्देश्य था कि वे मिनटों में ही अपनी जमीन की जानकारी प्राप्त कर सके ताकि वह मालिकाना हक   जता सकें।

UP Bhulekh Land Record In Highlights

पोर्टल का नामउत्तर प्रदेश भूलेख खसरा खतौनी
किसके द्वारा शुरू किया गयाउत्तर प्रदेश सरकार द्वारा
लाभार्थीउत्तर प्रदेश के नागरिक
उद्देश्यभूमि का संपूर्ण विवरण पोर्टल पर उपलब्ध कराना
लाभलोग घर बैठे ही आसानी से विवरण ऑनलाइन देख सकते हैं
भू अभिलेखों का कंप्यूटरीकरण2 मई 2016
यू पी भूलेख के कॉम्पोनेंट्सजमाबंदी, खसरा नंबर, खाता नंबर, खतौनी नंबर
आधिकारिक वेबसाइटwww.upbhulekh.gov.in

उत्तर प्रदेश राशन कार्ड सूची 2021

उत्तर प्रदेश वरासत अभियान

राज्य सरकार द्वारा यूपी वरासत अभियान को आरंभ किया गया है। इस अभियान के अंतर्गत विवादित उत्तराधिकार को खतौनी में दर्ज किया जाएगा। सरकार द्वारा इस अभियान को 15 दिसंबर 2020 से लेकर 15 फरवरी 2021 तक चलाया जाएगा। तथा इसके सफलतापूर्वक कार्यान्वयन के लिए सरकार द्वारा एक हेल्पलाइन नंबर तथा ईमेल आईडी भी जारी कर दी गई है। इसके साथ-साथ अभियान के पूरे होने के बाद सरकार की तरफ से जिलों में टीम भेजी जाएगी जिसके माध्यम से यह सुनिश्चित किया जाएगा कि सभी विवादित उत्तराधिकार दर्ज किए गए है या नहीं।

विरासत अभियान हेल्पलाइन नंबर

UP Jansunwai Portal 2021

यूपी विरासत अभियान शेड्यूल

राजस्व/तहसील अधिकारियों द्वारा वरासत हेतु प्रार्थना पत्र लेना तथा उसे ऑनलाइन करने की प्रक्रिया15 दिसंबर 2020 से 30 दिसंबर 2020
लेखपालों द्वारा ऑनलाइन जांच की प्रक्रिया31 दिसंबर 2020 से 15 जनवरी 2021
राजस्व निरीक्षक द्वारा जांच का आदेश पारित करने की प्रक्रिया16 जनवरी 2021 से 31 जनवरी 2021
यह सुनिश्चित करना कि यूपी में उत्तराधिकार विवाद का कोई भी प्रकरण दर्ज होने से शेष ना रहा हो1 फरवरी 2021 से 7 फरवरी 2021
जिला अधिकारियों तथा अन्य अफसरों द्वारा निर्विवाद उत्तराधिकार के समस्त लंबित प्रकरणों को पूर्ण करना8 फरवरी 2021 से 15 फरवरी 2021

UP Bhulekh, Khasra Khatoni

इस पोर्टल के माध्यम से उत्तर प्रदेश का प्रत्येक व्यक्ति अपने समीम का पूरा विवरण घर बैठे ही इंटरनेट के माध्यम से देख सकता है। पहले लोगों को अपने जमीन का विवरण देखने के लिए पटवार खाने जाना पड़ता था और काफी कठिनाइयों का भी सामना करना पड़ता था लेकिन सरकार द्वारा अब इस प्रक्रिया को ऑनलाइन कर दिया गया है तथा इस पोर्टल का इस्तेमाल करके लोग सरलता से ऑनलाइन अपने भूमि का विवरण देख सकते हैं।

भू अभिलेखों का कंप्यूटरीकरण

जैसे कि हम सब जानते हैं सरकार द्वारा डिजिटल करण की प्रक्रिया को शुरू करने का निर्णय लिया गया है इसी चीज को ध्यान में रखते हुए यूपी सरकार द्वारा भूलेख पोर्टल को आरंभ किया गया। इस पोर्टल के माध्यम से प्रत्येक भू अभिलेखों का कंप्यूटरीकरण किया जाएगा। इस पोर्टल को सरकार द्वारा 2 मई 2016 में शुरू किया गया था जिसे उत्तर प्रदेश के सभी तहसीलों में लागू कर दिया गया है। इस पोर्टल के माध्यम से आप संपूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकते हैं जैसे वह अभिलेख डांटा भू अभिलेख के मालिक की जानकारी भू अभिलेख की जानकारी आदि।

Central Government Scheme 2021

UP Bhulekh Components

  • जमाबंदी/फर्द- जमाबंदी में भूमि रिकॉर्ड विवरण जैसे मालिक का नाम कल्टीवेटर का नाम खसरा नंबर फसल विवरण पट्टा विवरण आदि दर्ज किया जाता है।
  • खसरा नंबर- यह एक प्रकार की विशिष्ट प्लॉट संख्या यह सर्वे संख्या होती है जो सरकार द्वारा कृषि भूमि को प्रदान की जाती है।
  • खाता नंबर/खेवट नंबर- यह एक प्रकार की संख्या होती है जो मालिकों के सेट को दी जाती है जिसके पास विभिन्न खसरा संख्या की भूमि का एक हिस्सा होता है
  • खतौनी नंबर- एक प्रकार की संख्या होती है जो कल्टीवेटर के सेट को दी जाती है।

यूपी भूलेख पोर्टल के लाभ

  • यूपी भूलेख पोर्टल के माध्यम से लोग अपना खसरा नंबर डालकर अपनी भूमि का नक्शा प्राप्त कर सकते हैं।
  • राज्य के लोगों को अपने जमीन का पूरा विवरण जाने के लिए कहीं बाहर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। वह घर बैठे ही आसानी से मिनटों में अपना विवरण जान सकेंगे।
  • इस पोर्टल के माध्यम से यूपी के लोगों को समय की बचत होगी।

उत्तर प्रदेश भूलेख खसरा खतौनी ऑनलाइन देखे

यूपी के जो इच्छुक लाभार्थी अपनी जमीन से जुड़ी सारी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, उन्हें नीचे दिए गए प्वाइंट्स को फॉलो करना होगा।

उत्तर प्रदेश भूलेख
  • ऑफिशियल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने ऑनलाइन सुविधाओं की सूची खुल जाएगी।
  • इसमें अगर आपको खसरा खतौनी की नकल देखनी है तो आप खसरा खतौनी नकल के ऑप्शन पर क्लिक कर सकते हैं।
  • इस ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुलकर आएगा।
  • उस पेज पर आपको कैप्चा कोड भरना है, कैप्चा कोड दर्ज करें और सबमिट बटन पर क्लिक करें।
उत्तर प्रदेश भूलेख
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुलकर आएगा। इस पेज पर आपको अपना जिला, तहसील, ग्राम, खसरा/खतौनी नंबर या सर्वे नंबर या पट्टे की जानकारी देनी है
Uttar Pradesh Bhulekh
  • सबसे पहले आपको जनपद को चुनना है फिर तहसील को चुनना है और फिर ग्राम को सुनना है। सुनने के बाद आपको जमीन की जानकारी देनी होगी।
  • इसके बाद आपको उचित टाइप का ऑप्शन चुनना है फिर आवश्यक विवरण दर्ज  करना है।
उत्तर प्रदेश भूलेख
  • इसके बाद आपको बॉक्स पर क्लिक करना है। सभी जानकारी भरने के बाद आपके सामने कंप्यूटर स्क्रीन पर भूलेख की सारी जानकारी आ जाएगी।

Up Govt Scheme 2021

उत्तर प्रदेश भूलेख ऑनलाइन कैसे देख सकते हैं?

  • सबसे पहले आपको यू पी भूलेख नक्शा देखने की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा |
  • ऑफिशियल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होमपेज  खुल कर आएगा।
  • इस होम पेज पर आपको अपने डिस्ट्रिक्ट, तहसील, विलेज आदि का ऑप्शन चुनना है।
  • इससे आपको अपने क्षेत्र का नक्शा दिखाई देगा।
  • आप संबंधित खाता धारक का नाम देखने के लिए अपने फॉर्म नंबर पर क्लिक कर सकते हैं।
  • इसके बाद आपको खाता संख्या दिखाई देगी। आप खाता धारक का नाम चूने जिसे आप देखना चाहते हैं।इस तरह से आप भूमि के नक्शे का प्रिंटआउट भी निकाल सकते हैं।

भू नक्शा डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको भू नक्शा उत्तर प्रदेश की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इस होम पेज पर आपको अपने जिले का चयन करना है।
  • जिले का चयन करने के बाद आपको अपने तहसील का चयन करना है।
  • इसके पश्चात आपको अपने गांव का चयन करना है
  • चयन करने के बाद आपके सामने एक नक्शा खुल कर आएगा।
  • यहां आपको अपने खेत के खसरा नंबर पर क्लिक करना है।
  • खसरा नंबर पर क्लिक करने के बाद आपके सामने भू नक्शा खुल कर आएगा
  • आप इस नक्शे  को डाउनलोड कर सकते हैं

राजस्व ग्राम खतौनी का कोड जानने की प्रक्रिया

राजस्व ग्राम खतौनी का कोड जानने की प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको अपने जिले, तहसील तथा गांव का चयन करना है
  • चयन करने के बाद आपके सामने राजस्व ग्राम खतौनी का कोड खुलकर आ जाएगा।

भूखंड/ गाटे का यूनिक कोड जानने की प्रक्रिया

भूखंड/ गाटे का यूनिक कोड जानने की प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुलकर आएगा।
  • इस पेज पर आपको जिले, तहसील तथा गांव का चयन करना है।
  • चयन करने के बाद आपके सामने भूखंड/गाटे का यूनिक कोड खुलकर आ जाएगा।

भूखंड/गाटे के विक्रय की स्थिति जानने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इस होम पेज पर आपको भूखंड गाटे के विक्रय की स्थिति जाने के विकल्प पर क्लिक करना है।
भूखंड/गाटे के विक्रय की स्थिति जानने की प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको अपने जिले, तहसील तथा गांव का चयन करना है।
  • चयन करने के बाद आपके सामने भूखंड गाटे के विक्रय की स्थिति खुलकर आ जाएगी।

खतौनी अंश निर्धारण की नकल देखने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको खतौनी अंश निर्धारण की नकल देखें के विकल्प पर क्लिक करना है
खतौनी अंश निर्धारण की नकल देखने की प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको अपने जिले तहसील तथा गांव का चयन करना है।
  • चैन करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको खसरा संख्या दर्ज करनी होगी
  • दर्ज करने के बाद आपको सर्च के बटन पर क्लिक करना है।
  • इस प्रकार जानकारी आपकी स्क्रीन पर आ जाएगी।

उत्तर प्रदेश भूलेख मोबाइल ऐप डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको अपने मोबाइल में गूगल प्ले स्टोर खोलना है।
  • प्ले स्टोर खोलने के बाद आपको सर्च बॉक्स में यू पी भूलेख दर्ज करना है।
  • दर्ज करने के बाद आपको सर्च के बटन पर क्लिक करना है।
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक सूची खुलकर आएगी।
  • इस सूची में आप को सबसे ऊपर वाले विकल्प पर क्लिक करना है।
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको इंस्टॉल के बटन पर क्लिक करना।
  • क्लिक करने के बाद यूपी भूलेख आपके मोबाइल में डाउनलोड हो जाएगी।

भूखण्ड गाटे के वाद ग्रस्त होने की स्थिति जानने की प्रक्रिया

भूखण्ड गाटे के वाद ग्रस्त होने की स्थिति जानने की प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुलकर आएगा।
  • इस पेज पर आपको आपको अपने जनपद के तहसील ग्राम पर नाम ग्राम का पहला अक्षर का चयन करना है
  • चयन करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुलकर आएगा।
  • इस पेज पर आपको गाटा संख्या दर्ज करनी है
  • संख्या दर्ज करने के बाद आपको खोजें के बटन पर क्लिक करना है।
  • इस प्रकार भूखण्ड गाटे के वाद ग्रस्त होने की स्थिति खुलकर आ जाएगी।

खतौनी अधिकार अभिलेख की नकल देखने की प्रक्रिया

खतौनी अधिकार अभिलेख की नकल देखने की प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुलकर आएगा।
  • इस पेज पर आपको जनपद तहसील ग्राम और ग्राम का पहला अक्षर का चयन करना है।
  • संपूर्ण जानकारी दर्ज करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा
  • इस पेज पर आपको खसरा गाटा संख्या दर्ज करनी है।
  • संख्या दर्ज करने के बाद आपको खोजें के बटन पर क्लिक करना है।
  • इस प्रकार आपके सामने खतौनी अधिकार अभिलेख की नकल खुलकर आ जाएगी।

राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति देखने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको राजस्व परिषद उत्तर प्रदेश भूलेख खतौनी की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा
  • इस होम पेज पर आपको राजस्व ग्राम सर्वजनिक संपत्ति के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुलकर आएगा
  • इस पेज पर आपको जनपद, तहसील, ग्राम का चयन करना है
  • चयन करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा
  • इस पेज पर आपको खसरा/ गाटा संख्या दर्ज करनी है
  • संख्या दर्ज करने के बाद आपको खोजें के बटन पर क्लिक करना है।
  • इस प्रकार राजस्व ग्राम सर्वजनिक संपत्ति खुलकर आ जाएगी।

निष्क्रांत संपत्ति देखने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको राजस्व परिषद उत्तर प्रदेश भूलेख खतौनी की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुलकर आएगा
  • इस होम पेज पर आपको निष्क्रांत संपत्ति के विकल्प पर क्लिक करना है
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा
  • इस पेज पर आपको जनपद और तहसील का चयन करना है।
  • चयन करने के बाद आपके सामने निष्क्रांत संपत्तियों का विवरण खुलकर आ जाएगा

शत्रु संपत्तियों का विवरण देखने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको राजस्व परिषद उत्तर प्रदेश भूलेख खतौनी की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना है
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुलकर आएगा।
  • इस पेज पर आपको शत्रु संपत्ति के विकल्प पर क्लिक करना है।
शत्रु संपत्तियों का विवरण देखने की प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुलकर आएगा।
  • इस पेज पर आपको जनपद तथा तहसील का चयन करना है।
  • चयन करने के बाद आपके सामने शत्रु संपत्तियों का विवरण खुलकर आ जाएगा।

राजकीय आस्थान संपत्ति देखने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको राजस्व परिषद उत्तर प्रदेश भूलेख खतौनी की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है ‌
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको राजकीय आस्थान के विकल्प पर क्लिक करना है।
राजकीय आस्थान संपत्ति देखने की प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको जनपद और तहसील का चयन करना है
  • चयन करने के बाद आपके सामने संबंधित जानकारी खुलकर आ जाएगी।

लोगिन करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको राजस्व परिषद उत्तर प्रदेश भूलेख खतौनी की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुलकर आएगा
  • इस पेज पर आपको लॉगइन के विकल्प पर क्लिक करना है
लोगिन करने की प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा
  • इस पेज पर आपको विभिन्न प्रकार के लॉगिन दिखाई देंगे जैसे
  • आप को अपनी आवश्यकतानुसार इच्छुक विकल्प का चयन करना है ‌
  • चयन करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा
  • इस पेज पर आप से पूछी गई सभी जानकारी जैसे प्रयोगकर्ता, पासवर्ड तथा कैप्चा कोड दर्ज करना है।
  • दर्ज करने के बाद आपको Login के बटन पर क्लिक करना है

शिकायत दर्ज करने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको यू पी भूलेख की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इस होम पेज पर आपको शिकायत पंजीकरण के विकल्प पर क्लिक करना है।
शिकायत दर्ज करने की प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर पूछी गई सभी जानकारी आपको दर्ज करनी है।
  • संपूर्ण जानकारी दर्ज करने के बाद आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना है।
  • इस प्रकार आप शिकायत दर्ज कर पाएंगे

शिकायत की स्थिति जांचने की प्रक्रिया

शिकायत की स्थिति जांचने की प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको रिफरेंस नंबर दर्ज करना है।
  • नंबर दर्ज करने के बाद आपको सर्च के बटन पर क्लिक करना है।
  • इस प्रकार शिकायत की स्थिति खुलकर आ जाएगी

भूखंड/गाटे के वाद ग्रस्त होने की स्थिति जानने की प्रक्रिया

भूखंड/गाटे के वाद ग्रस्त होने की स्थिति जानने की प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुलकर आएगा
  • इस पेज पर आपको अपने जिला, तहसील तथा गांव का चयन करना है।
  • चयन करने के बाद आपके सामने भूखंड गाटे के वाद ग्रस्त होने की स्थिति खुलकर आ जाएगी।

यूपी भूलेख के अंतर्गत जिलों की सूची

आगराझांसी
अलीगढ़कन्नौज
अंबेडकर नगरकानपुर देहात
अमेठीकानपुर नगर
अमरोहाकासगंज
औरैयाकौशांबी
अयोध्याखेरी
आजमगढ़कुशीनगर
बागपतललितपुर
बहराइचलखनऊ
बलियामहोबा
बलरामपुरमहाराजगंज
बांदामणिपुर
बाराबंकीमथुरा
बरेलीमऊ
बस्तीमेरठ
बिजनौरमिर्जापुर
बदायूंमुरादाबाद
बुलंदशहरमुजफ्फरनगर
चंदौलीपीलीभीत
चित्रकूटप्रतापगढ़
देवरियाप्रयागराज
एटारायबरेली
इटावारामपुर
फर्रुखाबादसहारनपुर
फतेहपुरसंभल
फिरोजाबादसंत कबीर नगर
गौतम बुद्ध नगरसंत रविदास नगर
गाजियाबादशाहजहांपुर
गाजीपुरशामली
गोंडाश्रावस्ती
गोरखपुरसिद्धार्थनगर
हमीरपुरसीतापुर
हापुरसोनभद्रआ
हरदोईसुल्तानपुर
हाथरसउन्नाव
जलाऊंवाराणसी
जौनपुर 

भूमि के प्रकार की सूची

भूमि प्रकारभूमि प्रकार का विवरणभूमि प्रकार का कोड(गाटा यूनिक कोड का 15-16 अंक)
1ऐसी भूमि, जिसमें सरकार अथवा गाँवसभा या अन्य स्थानीय अधिकारिकी जिसे1950 ई. के उ. प्र. ज. वि.एवं भू. व्य. अधि.की धारा 117 – क के अधीन भूमि का प्रबन्ध सौंपा गया हो , खेती करता हो ।11
1-कभूमि जो संक्रमणीय भूमिधरों केअधिकार में हो।12
1क(क)रिक्त13
1-खऐसी भूमि जो गवर्नमेंट ग्रांट एक्ट केअन्तर्गत व्यक्तियों के पास हो ।14
2भूमि जो असंक्रमणीय भूमिधरो केअधिकार में हो।21
3भूमि जो असामियों के अध्यासन या अधिकारमें हो।31
4भूमि जो उस दशा में बिना आगम केअध्यासीनों के अधिकार में हो जब खसरेके स्तम्भ 4 में पहले से ही किसी व्यक्तिका नाम अभिलिखित न हो।41
4-कउ.प्र. अधिकतम जोत सीमा आरोपण.अधि.अन्तर्गत अर्जित की गई अतिरिक्त भूमि -(क)जो उ.प्र.जोत सी.आ.अ.के उपबन्धो केअधीन किसी अन्तरिम अवधि के लिये किसी पट्टेदार द्वारा रखी गयी हो ।42
4-क(ख)अन्य भूमि ।43
5-1कृषि योग्य भूमि – नई परती (परतीजदीद)51
5-2कृषि योग्य भूमि – पुरानी परती (परतीकदीम)52
5-3-ककृषि योग्य बंजर – इमारती लकड़ी केवन।53
5-3-खकृषि योग्य बंजर – ऐसे वन जिसमें अन्यप्रकर के वृक्ष,झाडि़यों के झुन्ड,झाडि़याँ इत्यादि हों।54
5-3-गकृषि योग्य बंजर – स्थाई पशुचर भूमि तथा अन्य चराई की भूमियाँ ।55
5-3-घकृषि योग्य बंजर – छप्पर छाने की घास तथा बाँस की कोठियाँ ।56
5-3-ङअन्य कृषि योग्य बंजर भूमि।57
5-क (क)वन भूमि जिस पर अनु.जन. व अन्य परम्परागत वन निवासी (वनाधिकारों की मान्यत्ाा) अधि. – 2006 के अन्तर्गत वनाधिकार दिये गये हों – कृषि हेतु58
5-क (ख)वन भूमि जिस पर अनु.जन. व अन्य परम्परागत वन निवासी (वनाधिकारों की मान्यत्ाा) अधि. – 2006 के अन्तर्गत वनाधिकार दिये गये हों – आबादी हेतु59
5-क (ग)वन भूमि जिस पर अनु.जन. व अन्य परम्परागत वन निवासी (वनाधिकारों की मान्यत्ाा) अधि. – 2006 के अन्तर्गत वनाधिकार दिये गये हों – सामुदायिक वनाधिकार हेतु60
6-1अकृषिक भूमि – जलमग्न भूमि ।61
6-2अकृषिक भूमि – स्थल, सड़कें, रेलवे,भवन और ऐसी दूसरी भूमियां जोअकृषित उपयोगों के काम में लायी जाती हो।62
6-3कब्रिस्तान और श्मशान (मरघट) , ऐसेकब्रस्तानों और श्मशानों को छोड़ करजो खातेदारों की भूमि या आबादी क्षेत्र में स्थित हो।63
6-4जो अन्य कारणों से अकृषित हो ।64
7भूमि जो असामियों के अघ्यासन या अधिकारमें हो।71
9भूमि के ऐसे अध्यासीन जिन्होने खसरे के स्तम्भ 4 में उल्लिखित व्यकि्त की सम्मतिके बिना भूमि पर अधिकार कर लिया हो।91

अन्य महत्वपूर्ण लिंक

जिलों की सूचीयहां क्लिक करें
तहसील की सूचीयहां क्लिक करें
परगना की सूचीयहां क्लिक करें
राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति रजिस्टरयहां क्लिक करें

Contact Us

  • Computer Cell Board Of Revenue Lucknow, Uttar Pradesh
  • Email ID- bhulekh-up@gov.in
  • Phone Number- 0522-2217145

Conclusion

दोस्तों उम्मीद करती हूं कि आपको मेरा आर्टिकल के माध्यम से समझ आ गया होगा कि यूपी  भूमि खसरा खतौनी आप ऑनलाइन कैसे देख सकते हैं। आगे भी इसी तरह आपको और स्कीम के बारे में जानकारी प्रदान करती रहूंगी। अगर आपको इस लेख से जुड़ी कोई भी कठिनाई आती है तो आप हमसे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं।

Leave a Comment